जिंदगी

                                                 जिंदगी  जिंदगी मै तुमसे क्या कहू तुमने कितने रंग मुझमे भर  दिए नया विश्वास दिया, नया अहस...

अपने

                                                             अपने बचपन मे किसी को नाराज कर देते थे तो गले मे बांहे डालकर  मनाते थे  लेकि...

संवेदना

                                                                       संवेदना  क्या करू इन संवेदनाओ का  इन अहसासों  का जो मेरे दर्द को ...

लोकतंत्र

                                            लोकतंत्र यदि हमारा लोकतंत्र  गलत दिशा मे जा रहा है तो उसे सही दिशा देने का दायित्व किसका है...

लिखने से मिलता है सुकुन

          लिखने से मिलता है सुकुन मे लिखने को कभी अपने आप  से रोक नहीं पाई क्युकि लिखने से मुझे सुकून मिलता है या यू कहो की हालत की बेच...

लेख आज कि स्त्री - बदलती सूरत !

                   लेख            आज  कि स्त्री - बदलती सूरत  ! स्त्री के बारे मे साहित्य मे इतना  लिखा  गया कि शब्द कम पड़ गए ! स्त्र...